मंगलवार, 27 अक्तूबर 2015

आज मेरी बचपन का दोस्त ले याद आज आणि मके........

दूर छा मुलुक मेरो दूर रहगे याद आज मेरी
बचपन का दोस्त ले याद आज आणि मके
स्कूल का उ बिता दिन स्कूल का मौज मस्ती 
स्कूल में लड़ाई और मार और छुट्टी का टाइम हम सब माँ प्यार
गुल्ली डंडा क्रिकेट कांचा और ले खेली छन जो मैले खेल
बाजार माँ बैठी बे खाना और खाली कराना दोस्तु की जेब
आज याद बहुत आणि हो दाजु उ बचपन का दोस्तु का साथ
आज याद आणि उ घरे की बहुत याद
प्रदेश में नौकरी निचा प्रदेश का लोग आज हुमुके ढँकने लागि
बचपन की याद और पहाड़ु की याद रूल दी हो
आना रह्या मेरो पहाड़ माँ